बुधवार, 15 फ़रवरी 2017

संज्ञान एवं ज्ञान

 फाल्गुन कृष्ण पञ्चमी, बुधवार ; विक्रमाब्द २०७३ 

 

   वर्णानामर्थसंघानां  रसानां  छन्दसामपि |

      मङ्गलानां च कर्त्तारौ वन्दे वाणीविनायकौ ||      ( रामचरितमानस ) 


         
        संज्ञान-ज्ञानश्च विज्ञान ...  
          
    संज्ञानात्मक संवेदनाएँ ज्ञानोदय के पूर्व ही समस्त संसयात्मक तम का वेधन कर देती हैं |  वसंतकालीन सूर्योदय ज्ञानोदय के समस्त चरणों को आलोकित करता हैं |  

   हम जिस जगत में रहते हैं, वह वस्तुओं लोगों एवं घटनाओं की विविधता से भरा हैं ; और इन विविध वस्तुओं का ज्ञान हमारी ज्ञानेन्द्रियों की सहायता से हो पाता हैं |  ये ज्ञानेन्द्रियां मात्र वाह्य जगत से ही नहीं अपितु हमारे अपने शरीर से भी सूचनाएँ संग्रहित करती हैं |  हमारी ज्ञानेंद्रियों द्वारा संग्रहीत सूचनाएँ ही हमारे समस्त ज्ञान का आधार बनती हैं |  ज्ञानेंद्रियाँ वस्तुओं के विषय में विभिन्न प्रकार की सूचनाओं को पंजीकृत करके उन्हें मस्तिष्क को प्रेषित करती हैं ; जो उन्हें अर्थवान बनाता हैं |  हमारे आस-पास के जगत का ज्ञान तीन प्रमुख प्रक्रियाओं पर निर्भर करता हैं - संवेदना, अवधान तथा प्रत्यक्षण |  ये तीनों प्रक्रियाएँ एक दूसरे से अत्यधिक अंतर्सम्बंधित होती हैं |  इसलिए इन्हें समान्यतः एक ही प्रक्रिया संज्ञान के विभिन्न अंशों के रूप में समझा जाता हैं |  
    प्रेक्षण, प्रदर्श संग्रहण एवं विश्लेषण ज्ञान से सम्बंधित अनिवार्य चरण हैं |  संसूचन एवं प्रदर्श पंजीकरण में हमारी सातों ज्ञानेन्द्रियों का महत्त्वपूर्ण स्थान है |  विश्लेषण में बहुधा हम परिक्षण एवं भूल विधि का प्रयोग करते हैं |  लेकिन चैतन्यों के लिए प्रत्यक्ष (डॉयरेक्ट) मंत्र-दर्शन भी संभव है |  जब मन-मस्तिष्क का समन्वय होता है, तब उनकी गति अबाध हो जाती है ; दिक्काल की सीमा निःशेष पड़ जाती है |  तब कहीँ जाकर मंत्र-दर्शन होते हैं | ….