सोमवार, 17 अप्रैल 2017

वसंत - प्रभात


मधु - माधव  में  पवन  सु-मन्द ,

                 लेकर  चला  मधुप  मकरन्द ।   

मदन मद  मत्त,  मृदुल मन  छन्द

                हृदय  भी  मचल  रहा स्वछन्द ॥

 

भ्रमर    के    गुँजन    का   संगीत

                बढ़ाता   हृदय - हृदय   का   प्रीत ।

जगत  की अनुपम  न्यारी  रीति

               मदन का  रति पर अतिशय प्रीत ॥

 

झुके  तरु - डाल  की  लिपटै बेल ,

               जगत  जड़ - चेतन बीच सुमेल ।

जलधि  स्रोतस्विनी  करते  खेल ,

                मृदुल  से  खारे  जल  का  मेल ॥

 

उषा  का    प्राची  मे  आभास ,

               निलय  के  अभ्र  हुए  अरुणाभ ।

चहकते  चटका - चटकी  चित्त

                चितेरा  चित्रित   करता   वृत्त ॥

 

क्षितिज  पर  अर्धवृत्त  परिवृत्त

                प्रकिर्णन - किर्णन मय यह कृत्त ।

कुमुद  कुल   कोश  करें   संवृत्त

                 कमल  के  कोश   हुए   विवृत्त ॥

 

मिलावे  मलयानिल  दो   डाल

                 झूमते   वृक्ष   लिये    जयमाल ।

तिलक  'रवि'  का प्राची के भाल

                 नदी  सिर  शोभे  सिंदूर  लाल ॥

 

होता   पर्वत   पर    हिमपात

                 गिरता  स्व  चरणों  में  प्रपात ।

पतन  का उसे  अधिक  संताप

                  की  धोने वसुधा  का परिताप ॥                   

 

नदी  कल - कल  बहती  दिन-रात

                  सलिल  शीतल  सिंचित  तृण -पात ।

बीत   गई   हिम तम   की  रात

                   ऋतु  -  वसंत   का  यह   सुप्रभात ॥

               

                                      ~   रविशंकर मिश्र :

  

   ( यह कविता ‘वसंत प्रभात’ दो वर्ष पूर्व लिखी गई थी |  यह कविता  श्रृंगार रस और श्रृंगार छंद में प्राकृतिक प्रेम का श्रृंगारिक वर्णन  प्रस्तुत कराती हैं |